Latest 100+ Mirza Ghalib Shayari-Quotes in Hindi 2021 | Mirza Ghalib Shayari

मिर्जा गालिब एक ऐसी ब्यक्ति है जिसे हर कोई जानता है। ऐसे महान कवि जिन्होंने कविता के प्रति लोगों का नजरिया बदल दिया। मिर्जा गालिब एक प्रतिभाशाली पत्र लेखक थे। इस पोस्ट में हम आपके लिए Google से मिर्जा गालिब की कुछ बेहतरीन Mirza Ghalib Shayari लेकर आए हैं। आशा है कि आपको यह जरूर पसंद आएगा, आप नीचे दी गई सभी शायरी छवियों को मुफ्त में डाउनलोड कर सकते हैं।

Ghalib Shayari 2021

ghalib shayari on love
Ghalib shayari in Hindi

इश्क़ ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया,
वर्ना हम भी आदमी थे काम के।

तेरे वादे पर जिये हम
तो यह जान,झूठ जाना
कि ख़ुशी से मर न जाते
अगर एतबार होता ..

Ghalib Shayari in Hindi

तुम अपने शिकवे की बातें
न खोद खोद के पूछो
हज़र करो मिरे दिल से
कि उस में आग दबी है..

Download Best Life Quotes Images 2021 ✔️
🔵 1000+ Life Shayari in Hindi
🟢 100+ Motivational Quotes for Life
🟡 50+ Life Changing Quotes
🔵 50+ Life Quotes in English
🟣 100+ife Quotes in Hindi
🟠 50+ Funny Quotes About Life
🔵 100+ Attitude Status for Girls in Hindi

तू ने कसम मय-कशी की खाई है ‘ग़ालिब’
तेरी कसम का कुछ एतिबार नही है..!

ghalib shayari on life
Ghalib shayari on life

मोहब्बत में नही फर्क जीने और मरने का
उसी को देखकर जीते है जिस ‘काफ़िर’ पे दम निकले.

मगर लिखवाए कोई उस को खत
तो हम से लिखवाए
हुई सुब्ह और
घरसे कान पर रख कर कलम निकले.

मरते है आरज़ू में मरने की
मौत आती है पर नही आती,
काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’
शर्म तुमको मगर नही आती ।

कहाँ मयखाने का दरवाज़ा ‘ग़ालिब’ और कहाँ वाइज
पर इतना जानते है कल वो जाता था के हम निकले.

बना कर फकीरों का हम भेस ग़ालिब
तमाशा-ए-अहल-ए-करम देखते है.

तेरे वादे पर जिये हम, तो यह जान झूठ जाना,
कि ख़ुशी से मर न जाते, अगर एतबार होता ।

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़।
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है।।

काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’।
शर्म तुम को मगर नहीं आती।।

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है।
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है।।

इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’।
कि लगाये न लगे और बुझाये न बुझे।।

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना।
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना।।

दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई।
दोनों को इक अदा में रज़ामंद कर गई।।

दर्द मिन्नत-कश-ए-दवा न हुआ।
मैं न अच्छा हुआ बुरा न हुआ।।

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक।
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक।।

क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हां।
रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन।।

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का।
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले।।

कितना ख़ौफ होता है शाम के अंधेरों में।
पूछ उन परिंदों से जिनके घर नहीं होते।।

हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले।
बहुत निकले मिरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले।।

हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे।
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और।।

न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता।
डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता।।

दर्द जब दिल में हो तो दवा कीजिए।
दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजिए।।

हाथों की लकीरों पे मत जा ऐ गालिब।
नसीब उनके भी होते हैं जिनके हाथ नहीं होते।।

रही न ताक़त-ए-गुफ़्तार और अगर हो भी।
तो किस उम्मीद पे कहिये के आरज़ू क्या है।।

नज़र लगे न कहीं उसके दस्त-ओ-बाज़ू को।
ये लोग क्यूँ मेरे ज़ख़्मे जिगर को देखते हैं।।

तेरे वादे पर जिये हम, तो यह जान, झूठ जाना।
कि ख़ुशी से मर न जाते, अगर एतबार होता।।

हमको मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन।
दिल के खुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़्याल अच्छा है।।

ज़िन्दगी से हम अपनी कुछ उधार नही लेते,
कफ़न भी लेते है तो अपनी ज़िन्दगी देकर।

हम न बदलेंगे वक़्त की रफ़्तार के साथ,
जब भी मिलेंगे अंदाज पुराना होगा।

खैरात में मिली ख़ुशी मुझे अच्छी नहीं लगती ग़ालिब,
मैं अपने दुखों में रहता हु नवावो की तरह।

हम तो फना हो गए उसकी आंखे देखकर गालिब,
न जाने वो आइना कैसे देखते होंगे।

दर्द जब दिल में हो तो दवा कीजिए,
दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजिए।

बस कि दुश्वार है हर काम का आसाँ होना
आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसाँ होना

मैं नादान था जो वफ़ा को तलाश करता रहा ग़ालिब
यह न सोचा के
एक दिन अपनी साँस भी बेवफा हो जाएगी

फ़िक्र-ए-दुनिया में सर खपाता हूँ
मैं कहाँ और ये वबाल कहाँ !!

वो जो काँटों का राज़दार नहीं,
फ़स्ल-ए-गुल का भी पास-दार नहीं !!

तू मिला है तो ये अहसास हुआ है मुझको,
ये मेरी उम्र मोहब्बत के लिए थोड़ी है

हम जो सबका दिल रखते हैं
सुनो, हम भी एक दिल रखते हैं

खुद को मनवाने का मुझको भी हुनर आता है
मैं वह कतरा हूं समंदर मेरे घर आता है

कुछ तो तन्हाई की रातों में सहारा होता,
तुम न होते न सही ज़िक्र तुम्हारा होता !!

हम भी दुश्मन तो नहीं हैं अपने
ग़ैर को तुझ से मोहब्बत ही सही

की वफ़ा हम से, तो गैर उसको जफ़ा कहते हैं
होती आई है, कि अच्छो को बुरा कहते हैं

उम्र भर देखा किये, मरने की राह
मर गये पर, देखिये, दिखलाएँ क्या

हमारे शहर में गर्मी का यह आलम है ग़ालिब
कपड़ा धोते ही सूख जाता है
पहनते ही भीग जाता है

लोग कहते है दर्द है मेरे दिल में ,
और हम थक गए मुस्कुराते मुस्कुराते

कोई उम्मीद बर नहीं आती।
कोई सूरत नज़र नहीं आती।

मौत का एक दिन मुअय्यन है।
नींद क्यूँ रात भर नहीं आती।

लफ़्ज़ों की तरतीब मुझे बांधनी नहीं आती “ग़ालिब”।
हम तुम को याद करते हैं सीधी सी बात है।

आईना देख अपना सा मुँह ले के रह गए
साहब को दिल न देने पे कितना ग़ुरूर था

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना

About Mirza Ghalib | मिर्जा ग़ालिब के बारे में

मिर्जा गालिब का जन्म आगरा के कला महल में मुगलों के एक परिवार में हुआ था, जो सेल्जुक राजाओं के पतन के बाद समरकंद (आधुनिक उज्बेकिस्तान में) चले गए थे। उनके दादा, मिर्जा कोकान बेग, एक सेल्जूक तुर्क थे, जो अहमद शाह (1748-54) के शासनकाल के दौरान समरकंद से भारत आए थे। उन्होंने लाहौर, दिल्ली और जयपुर में काम किया, उन्हें पहासू (बुलंदशहर, यूपी) के उप-जिले से सम्मानित किया गया और अंत में आगरा, यूपी, भारत में बस गए। उनके चार बेटे और तीन बेटियां थीं। मिर्जा अब्दुल्ला बेग और मिर्जा नसरुल्ला बेग उनके दो बेटे थे।

मिर्जा अब्दुल्ला बेग (गालिब के पिता) ने इज्जत-उत-निसा बेगम से शादी की, जो एक जातीय कश्मीरी थी, और फिर अपने ससुर के घर पर रहती थी। उन्हें पहले लखनऊ के नवाब और फिर हैदराबाद, दक्कन के निजाम द्वारा नियुक्त किया गया था। 1803 में अलवर में एक युद्ध में उनकी मृत्यु हो गई और उन्हें राजगढ़ (अलवर, राजस्थान) में दफनाया गया। उस समय गालिब की उम्र 5 साल से कुछ ज्यादा थी। उसके बाद उनके चाचा मिर्जा नसरुल्ला बेग खान ने उनका पालन-पोषण किया, लेकिन 1806 में, नसरुल्ला एक हाथी से गिर गए और संबंधित चोटों से उनकी मृत्यु हो गई।

तेरह साल की उम्र में, गालिब ने नवाब इलाही बख्श (फ़िरोज़पुर झिरका के नवाब के भाई) की बेटी उमराव बेगम से शादी की। एक छोटी उम्र और बाद में 1857 की अराजकता के दौरान दिल्ली में मृत्यु हो गई। उनके सात बच्चों में से कोई भी शैशवावस्था से आगे नहीं बचा। शादी के बाद वह दिल्ली में बस गए। अपने एक पत्र में उन्होंने अपनी शादी को प्रारंभिक कारावास के बाद दूसरे कारावास के रूप में वर्णित किया है जो कि जीवन ही था। यह विचार कि जीवन एक निरंतर दर्दनाक संघर्ष है जो जीवन के समाप्त होने पर ही समाप्त हो सकता है, उनकी कविता में एक आवर्ती विषय है।

उनका एक दोहा संक्षेप में कहता है:

जीवन का कारागार और दु:ख का बंधन एक ही है,
मनुष्य को मरने से पहले दुःख से मुक्त क्यों होना चाहिए ।

मिर्ज़ा ग़ालिब का दुनिया के बारे में दृष्टिकोण, जैसा कि वह दुनिया को देखता है, एक खेल के मैदान की तरह है जहाँ हर कोई किसी बड़ी चीज़ के बजाय कुछ सांसारिक गतिविधियों और मौज-मस्ती में व्यस्त है जैसा कि उन्होंने लिखा:

यह दुनिया मेरे लिए बच्चों का खेल का मैदान है,
मेरे सामने दिन-रात एक तमाशा सामने आता है ।

Ghalibs Pen Name | ग़ालिब का कलम नाम

ग़ालिब का मूल तखल्लुस (कलम-नाम) असद था, जो उनके दिए गए नाम असदुल्ला खान से लिया गया था। अपने काव्य कैरियर की शुरुआत में उन्होंने ग़ालिब के उपनाम को अपनाने का भी फैसला किया (जिसका अर्थ है सभी विजयी, श्रेष्ठ, सबसे उत्कृष्ट)। कुछ जगहों पर ग़ालिब ने अपनी शायरी में असद उल्लाह ख़ान के कलम नाम का भी इस्तेमाल किया।

Married Life | वैवाहिक जीवन

13 साल की उम्र में ग़ालिब का विवाह नवाब इलाही बख्श की बेटी उमराव बेगम से हुआ था। शादी के बाद वे दिल्ली आ गए जहां उन्होंने अपना पूरा जीवन बिताया। पेंशन के सिलसिले में उन्हें कोलकाता का लंबा सफर तय करना पड़ा, जिसका जिक्र उनकी ग़ज़लों में जगह-जगह मिलता है।

Films and TV serial on Ghalib | मिर्ज़ा ग़ालिब पर फ़िल्में और टीवी सीरियल

भारतीय सिनेमा ने मिर्जा गालिब (1954) नामक एक फिल्म (सीपिया / ब्लैक एंड व्हाइट में) के माध्यम से महान कवि को श्रद्धांजलि दी है, जिसमें भारत भूषण गालिब की भूमिका में हैं और सुरैया ने उनके दरबारी प्रेमी, चौडविन की भूमिका निभाई है। फिल्म का संगीतमय स्कोर गुलाम मोहम्मद द्वारा तैयार किया गया था और गालिब की प्रसिद्ध ग़ज़लों की उनकी रचनाएँ हमेशा पसंदीदा बनी रहने की संभावना है।

पाकिस्तानी सिनेमा ने भी मिर्जा गालिब (1961) नामक एक अन्य फिल्म के माध्यम से महान कवि को श्रद्धांजलि दी। फिल्म का निर्देशन और निर्माण एम.एम. एस.के. के लिए बिल्लू मेहरा चित्रों। संगीत तसद्दुक हुसैन ने तैयार किया था। फिल्म में पाकिस्तानी फिल्म सुपरस्टार सुधीर ने गालिब की भूमिका निभाई और मैडम नूरजहाँ ने उनके दरबारी प्रेमी, चौडविन की भूमिका निभाई। यह फिल्म २४ नवंबर १९६१ को रिलीज़ हुई और बॉक्स-ऑफिस पर औसत दर्जे पर पहुंच गई, हालाँकि, संगीत आज भी पाकिस्तान में यादगार बना हुआ है।

गुलज़ार ने डीडी नेशनल पर प्रसारित एक टीवी धारावाहिक, मिर्ज़ा ग़ालिब (1988) का निर्माण किया, जो भारत में बेहद सफल रहा। नसीरुद्दीन शाह ने धारावाहिक में ग़ालिब की भूमिका निभाई, और इसमें जगजीत सिंह और चित्रा सिंह द्वारा गाए और संगीतबद्ध ग़ज़लें थीं। धारावाहिक के संगीत को तब से जगजीत सिंह और चित्रा सिंह की महान कृति के रूप में मान्यता मिली है, जो भारतीय उपमहाद्वीप में एक पंथ का आनंद ले रही है।

एक अन्य टेलीविजन शो, मिर्जा ग़ालिब: द प्लेफुल म्यूज़ियम, 1989 में डीडी नेशनल पर प्रसारित हुआ; ग़ालिब की विभिन्न ग़ज़लों को प्रत्येक एपिसोड में गायकों और संगीतकारों द्वारा अलग-अलग संगीत शैलियों में प्रस्तुत किया गया था।

Sorry, no posts were found.

Leave a Comment

  • Download Image

    close